Connect with us

उज्ज्वल भविष्य की जानकारी

जल संरक्षण के बेहतर कार्य के लिए संजय सिंह को मिला बुन्देलखण्ड गौरव सम्मान

Published

on

Sanjay Singh honored with Bundelkhand gaurav samman for better work of water conservation

झांसी : बुन्देलखण्ड नागरिक सम्मान समारोह समिति के द्वारा झांसी के राजकीय संग्रहालय सभागार में बुुन्देलखण्ड गौरव समारोह का आयोजन किया गया। समारोह में जल जन जोडो अभियान के राष्ट्रीय संयोजक संजय सिंह को उनके द्वारा बुन्देलखण्ड में किये गये जल संरक्षण के लिए किये गये कार्यो के लिए बुन्देलखण्ड गौरव सम्मान दिया गया। Sanjay Singh honored with Bundelkhand gaurav samman for better work of water conservation

यह समारोह समाज के विभिन्न वर्गो के लोगों के द्वारा आयोजित किया गया, इस सम्मान समारोह में जल जन जोडो अभियान के राष्ट्रीय संयोजक संजय सिंह को उनके द्वारा बुन्देलखण्ड में किये गये जल संरक्षण के लिए किये गये कार्यो के लिए बुन्देलखण्ड गौरव सम्मान दिया गया।

इस अवसर पर पूर्व मंत्री रविन्द्र शुक्ला ने कहा कि यह अच्छाई का सम्मान है, अच्छाई और सच्चाई का समाज में सम्मान होते रहना चाहिए, धर्माचार्य हरिओम पाठक ने कहा कि समाज के लिए कार्य करने वाला व्यक्ति सम्मान नहीं चाहता लेकिन समाज की जिम्मेदारी है कि वह ऐसे लोगों का खोज-खोज कर सम्मान करे जो समाज सेवा में लगे है।

Sanjay Singh honored with Bundelkhand gaurav samman for better work of water conservation

Sanjay Singh honored with Bundelkhand gaurav samman for better work of water conservation

राज्य मंत्री हरगोविन्द्र कुशवाहा ने कहा कि समाजसेवा में लगे हुये लोगों को नीव के पत्थर बनकर काम करना होगा अगर संजय सिंह ने अपने पिता को खोया है तो मेरे शरीर में भी 68 घाव है, संकटो, आभावों की परवाह कियें बिना हमें समाजसेवा में लगे रहना चाहिए।

पूर्व केन्द्रीय मंत्री प्रदीप जैन आदित्य ने कहा कि हमारा जीवन पंचतत्वों पर टिका है और इनका मनुष्य जीवन में बहुत बडा ऋण है उन्होंने कहा कि जिस तरह से जल का संकट बिकराल होता जा रहा है इसके लिए हर व्यक्ति को जल संरक्षण एवं जल सम्बर्द्धन में अपना योगदान देना चाहिए, एवं समाज की जिम्मेदारी बनती है कि समाज के प्रत्येक क्षेत्र के अच्छे लोगों का वह सम्मान करे। उन्होंने कहा कि हर व्यक्ति को यह शरीर छोडने से पहले जल का ऋण चुकता करना चाहिए।

डाॅ0 सुनील तिवारी ने बुन्देलखण्ड में पानी के गहराते जल संकट पर विस्तार से चर्चा करते हुए कहा कि तालाबों को बचाकर ही बुन्देलखण्ड की संस्कृति बचा सकतेे है आभावों से जूझते हुये जल संरक्षण के कार्यो को संजय सिंह ने जारी रखा, जल पुरूष राजेन्द्र सिंह ने संजय सिंह के जल संरक्षण के कार्यो को देखते हुए अपने अभियान का राष्ट्रीय संयोजक बनाया।

ध्एडीआर के राज्य समन्वयक अनिल शर्मा ने कहा कि समाज अगर अपराधी और माफियाओं के भय से कुछ बोल नहीं सकता तो कम से कम उनका अभिवादन ना करे और हर अच्छा व्यक्ति समाज के विभिन्न क्षेत्रों के अच्छे व्यक्तियों की तारीफ करे जिससे समाज बुरों के खिलाफ अच्छों का एक मानक तैयार हो जाये।

Sanjay Singh honored with Bundelkhand gaurav samman for better work of water conservation

Sanjay Singh honored with Bundelkhand gaurav samman for better work of water conservation

सीए एशोसिएशन के अध्यक्ष शिवा लिखधारी ने कहा कि संजय सिंह से हमें जल संरक्षण की सीख लेनी चाहिए और अपने जीवन में उतारता चाहिए, आईएमए के अध्यक्ष डाॅ0 प्रमोद गुप्ता  ने कहा कि अपने सेवा काल में गुजरात के बलसाड में जब चैकडेमों का निर्माण होता देखा तो पानी के जल संकट को नहीं समझ पाया लेकिन जब बुन्देेलखण्ड में आया तो जल संकट की भीषणता से रूबरू हुये।

सिने अभिनेता आरिफ शहडोली ने कहा कि वह लोगों को जल संरक्षण के लिए साक्षर करने के लिए बुन्देलखण्ड की जल सहेलियों के ऊपर फिल्म बनायेगे जिसका कार्य उन्होंने शुरू कर दिया है। सूचना जन अधिकार मंच के संयोजक मुदित चिरवारिया ने कहा कि समाज में बदलाव का कार्य करना बहुत कठिन होता है, संजय सिंह ने जिस सघर्ष के साथ कार्य किया वह युवाओं के लिए प्रेरणादायक है जन सूचना अधिकार मंच उनके प्रयासों से प्रेरणा लेकर इसे बुन्देलखण्ड क्षेत्र में आगे बढायेगा।

बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय पत्रकारिता विभाग प्र्रमुख ने कहा कि अच्छाई का सम्मान देखकर मैं बुन्देलखण्ड के लोगों का धन्यवाद देता हूं, डाॅ0 मुहम्मद नईम ने कहा कि अंधेरे से लडने का दौर है पानी का संकट आज हमारे सामने विकराल होता नजर आ रहा है इससे हम सबको मिलकर लडना होगा।

Sanjay Singh honored with Bundelkhand gaurav samman for better work of water conservation

कार्यक्रम के संयोजक अमित त्रिपाठी ने कहा कि बुन्देलखण्ड गौरव सम्मान का सिलसिला आगे जारी रहेगा और हम बुन्देलखण्ड उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों के अच्छे लोगों का खोज कर सम्मान करेगे। अपने सम्मान के प्रतिउत्तर में डाॅ0 संजय सिंह ने कहा कि वह दुनिया के जिस भी देश में गये वहां उन्हें बुन्देलखण्ड के पानी की हमेशा याद आती रही उन्होंने कहा कि वह बुन्देलखण्ड के जल संकट के लिए असाधारण प्रयास करेगे।

इस अवसर पर सर्वसम्मति से प्रस्ताव कर डाॅ0 संजय सिंह को जल ऋषि की उपाधि से सम्मानित किया। कार्यक्रम का संचालन महेश पटैरिया ने किया, इस अवसर पर लखनऊ से सन्तोष श्रीवास्तव, जेपी उपाध्याय झांसी के सन्तराम पेन्टर, मर्दनसिंह इण्टर काॅलेज के प्रधानाचार्य रतनेश कुमार लिटोरिया, संदीप सिंह, देवकीनन्दर चैबे निर्मल जैन, रघुराज शर्मा, राजेश तिवारी, नीलम शर्मा, नरेश बुन्देला, नन्द किशोर, कृष्णलाल, अनिल वस्ती, भगवान दास, अम्बिका श्रीवास्तव, संध्या सिंह, अमरदीप बमोनिया, हेमन्त, दीपांशु सिंह, जितेन्द्र यादव, अभिनव आशीष, शिवानी सिंह, हिमांशु विमल, सोनिया पस्तोर सहित डेढ सैकडा से अधिक लोग उपस्थित रहे।

उज्ज्वल भविष्य की जानकारी

डीयू में पाठ्यक्रम को लेकर विवाद, छात्र संघ ने किया हंगामा

Published

on

दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) ने अपना सत्र 20 जुलाई से शुरू कर दिया है। तो वहीं चार विषयों के पाठ्यक्रम को लेकर अभी भी स्थिति स्पष्ट नहीं हुई है, जिसे लेकर काफी हंगामा भी हुआ। विवादित विषय अंग्रेजी, इतिहास, राजनीति शास्त्र और समाज शास्त्र है। हंगामे के बाद इसे विभाग को वापस भेज दिया गया है।

विषयों को लेकर कार्यकारी परिषद और विद्वत परिषद की बैठकों में हंगामा हुआ था। हालांकि अभी तक यह स्पष्ट नहीं हुआ है कि इन पाठ्यक्रमों में किन शर्तों के आधार पर कितना बदलाव किया जाएगा। डीयू में अब कार्यकारी समिति ने पाठ्यक्रम में परिवर्तन के लिए 10 दिन का समय दिया है। कुछ छात्र संगठन और शिक्षक इन विभागों के पाठ्यक्रम में बदलाव के पक्ष में हैं, तो कुछ इसका विरोध भी कर रहे हैं। इन विभागों के पाठ्यक्रम तैयार ना होने पर छात्रों के सामने बड़ा सवाल यही है कि दाखिला लेने के बाद वह क्या पढ़ेंगे।

डीयू में विद्वत परिषद के सदस्य डॉ. रसाल सिंह का कहना है कि चारों विभागों के पाठ्यक्रम का मैंने विद्वत परिषद में विरोध किया था। क्योंकि यह हमें अस्वीकार्य है। इसमें देश, भरतीय संस्कृति, धर्म, दर्शन का अपमान किया गया है। उनका कहना था कि अंग्रेजी विभाग के पाठ्यक्रम में गुजरात दंगों की पृष्ठभूमि का कहानी, संघ से संबद्ध बजरंग दल से जुड़े हुए पात्र को बहुत गलत ढंग से दर्शाया गया है। मुजफ्फरनगर दंगे और लिंचिंग भी पाठ्यक्रम में शामिल किए गए हैं। इसी तरह इतिहास के पाठ्यक्रम से राजपूत इतिहात, अमीर खुसरो और आंबेडकर गायब है। जबकि नस्लवाद और माओवाद पढ़ाया जाएगा जो हमें स्वीकार नहीं है। तो वहीं राजनीति शास्त्र के पाठ्यक्रम में सामाजिक आंदोलन गायब है। हिंदी में लिखी पुस्तकें और विद्वान गायब हैं।

डीयू में विद्वत परिषद के सदस्य डॉ. सैकत घोष का कहना है कि दिल्ली विश्वविद्यालय और कुलपति सरकार और संघ के दबाव में हैं। उन्होंने कहा कि संशोधित पाठ्यक्रम को लेकर जो आपत्तियां है उनमें से छात्रहित को ध्यान में रखकर अंग्रेजी विभाग ने माना है। लेकिन बाकी विभागों की आपत्तियों की समीक्षा किस आधार पर की जाएगी यह स्पष्ट नहीं है।

अंग्रजी विभाग के अध्यक्ष प्रो. राज कुमार का कहना है कि हम किसी की भावना को ठेस नहीं पहुंचाना चाहते हैं। इसलिए गुजरात दंगा, मुजफ्फरनगर दंगा, एलजीबीटी में भागवत पुराण के संदर्भ को कोर्स से हटा दिया गया है। अब इसे कमेटी ऑफ कोर्सेस भेज दिया जाएगा उसके बाद आर्ट फैकल्टी भेजा जाएगा।

जब कार्यकारी समिति की बैठक चल रही थी तब डीयू में एबीवीपी के नेता और छात्र संघ अध्यक्ष ने विवादित अंश को पाठ्यक्रम से हटाने के लिए सत्याग्रह शुरू कर दिया था। अब ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन का आरोप है कि एबीवीपी और संघ के दबाव में पाठ्यक्रम में बदलाव हो रहा है।

Continue Reading

आपका मंच

दिल्ली विश्वविद्यालय का सत्र शुरु, कर लें अपनी सीट पक्की

Published

on

दिल्ली विश्वविद्यालय में एडमिशन की भागदौड़ मची है। चौथी कटऑफ के दाखिले के बाद अब पांचवी कटऑफ भी जारी कर दी गई है, तो वहीं विश्वविद्यालय में नए सत्र की शुरूआत भी शनिवार से हो गई है। शुरुआती दिनों में कॉलेजों में छात्र-छात्राओं की उपस्थिति कम ही देखने को मिली, जो भी दिखे एक-दूसरे का परिचय लेते दिखे।

बता दें दिल्ली यूनिवर्सिटी की पांचवी कऑफ में .25% से .5% तक की ही कमी आई है। माना जा रहा है कि यह कटऑफ लास्ट कटऑफ हो सकती है। इस कारण कॉलेज इस लिस्ट में ही अपनी सीट पक्की करने की सलाह भी दे रहा है। अभी साइंस और कॉमर्स के कोर्सों में एडमिशनके मौके ज्यादा मिलेंगे तो वहीं कई कॉलेजों में जो कोर्स बंद हो चुके थे वो भी खुले है। इस कारण स्टूडेंट्स को एक और मौका मिला है।

दिल्ली यूनिवर्सिटी में केंद्र सरकार के निर्णय के बाद सभी कॉलेजों में ईडब्ल्यूएस कोटा के तहत 10 फीसदी सीटें बढ़ा दी गई है। कई कॉलेजों में इस निर्णय को सही बताया गया। लेकिन उनका कहना है कि ये सब तब ही ठीक होगा जब यह मूलभूत सुविधा की बढोत्तरी के बाद इसे लागू किया जाए।

दिल्ली का मिरांडा हाउस, जो कि नेशनल रैंकिंग इंस्टीट्यूशनल फ्रेमवर्क में लगातार तीन साल तक देश में पहले स्थान पर रहा है, इस कॉलेज में सीट से ज्यादा एडमिशन हो गए है। कॉलेज के पास स्नातक में कुल 1157 सीटें है लेकिन यहां चोथी कटऑफ के बाद 1820 सीटों पर एडमिशन हुआ है। जिसके बाद कॉलेज की प्रिंसिपल डा. बिजयलक्ष्मी का कहना है कि यह हमारे लिए थोड़ा मुश्किल है, लेकिन हम सभी को बेहतर देने का प्रयास करेंगे। स्टूडेंट्स के लिए सीटों की संख्या भी बढ़ाई गई है।

तो वहीं चौथी कटऑफ के बाद दिल्ली विश्वविद्यालय में छात्रों से अधिक छात्राओं ने एडमिशन लिया है। गार्गी कॉलेज में इको, इंग्लिश, पॉलिटिकल साइंस दोबारा खुले है, यहां स्टूडेंट्स के लिए अच्छा मौका है। वहीं बीकॉम 94.75 और बीकॉम ऑनर्स में 96 में अब भी एडमिशन का मौका है। बता दें पांचवी लिस्ट पर 20 जुलाई से एडमिशन शुरु हो गए है और तीन दिन तक चलेंगे।

Continue Reading

उज्ज्वल भविष्य की जानकारी

सबके प्रति सेवाभाव उचित संस्कारों की पहचान : गीता परिवार

Published

on

geeta parivar three days arjun bhav sanskar path camps concluded

लखनऊगीता परिवार की ओर से चल रहे तीन दिवसीय अर्जुन भव संस्कार पथ शिविर का शुक्रवार को समापन हुआ। geeta parivar three days arjun bhav sanskar path camps concluded

सरस्वती शिशु मंदिर टिकैतराय तालाब में भगवद्गीता श्लोक में आशुतोष सिंह, ध्रुव साधना में मो. हारून, महाभारत के पात्रों के नामों व आदर्श शिविरार्थी में अरविंद निषाद तथा अग्रसेन इंटर कालेज मोतीनगर में आदर्श शिविरार्थी में राहुल कामत, रामायण के पात्रों के नामों में सत्यम गुप्ता, गीता श्लोक स्पर्धा में मो. रिजवान, मार्डन इंडियन स्कूल पारा में श्लोक स्पर्धा में पलक धीमान, ध्यान में गौरी शर्मा, आदर्श शिविरार्थी में इंशिका, रमा पब्लिक स्कूल पारा में ध्यान में शिवानी श्रीवास्तव, गीता श्लोक में माही, आदर्श शिविरार्थी में हर्ष राठौर, वैष्णवी ने बाजी मारी।

geeta parivar three days arjun bhav sanskar path camps concluded

geeta parivar three days arjun bhav sanskar path camps concluded

मुख्य अतिथियों ने प्रतियोगिता के विजयी बच्चों को पुरस्कृत किया। इस मौके पर मुख्य अतिथियों में वेद प्रकाश गुप्ता, डॉ. कमल कुमार तिवारी, कीर्ति दुबे, मोहनी वर्मा, प्रीति जूली गुप्ता, मोनिका गुप्ता, वंदना तिवारी मौजूद थी। शिविरों का संचालन कुमकुम भटनागर, ज्योति शुक्ला कर रही थी तथा खेल के साथ मनोरंजक सत्रों का संचालन अभय, कविता, उदय कर रहे थे।

शिविर समापन अवसर पर डा. कमल कुमार तिवारी ने कहा कि बच्चों को पढ़ाई के साथ-साथ नैतिक शिक्षा व संस्कारों का ज्ञान होना परम आवश्यक है। इसके लिए उन्हें सुपात्र होना चाहिए क्योंकि बच्चे अनुशासन के बिना शिक्षा ग्रहण नहीं कर सकते। ग्रहण करने वाले पर निर्भर करता है लगन, निष्ठा, परिश्रमी, कर्तव्यनिष्ठ होकर संस्कारों का ज्ञार्नाजन व नैतिक शिक्षा ग्रहण करे अन्यथा सब व्यर्थ है।

geeta parivar three days arjun bhav sanskar path camps concluded

geeta parivar three days arjun bhav sanskar path camps concluded

मोतीनगर के अग्रसेन इंटर कालेज में संस्कारशाला में उपस्थित विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कुमकुम भटनागर ने कहा कि माता, पिता, गुरु संग बड़े-बुजुर्गों के प्रति सेवाभाव उचित संस्कारों की पहचान है। सेवा से बड़ा धर्म दूसरा नहीं है। बिना स्वार्थ की गयी सेवा से सुखद अनुभूति होती है और आत्म संतुष्टि मिलती है। सेवा का भाव हर बच्चों में होना चाहिए। सीमा पर तैनात सैनिक जान की परवाह न करते हुए हमेशा देश की सेवा को तत्पर रहता है उसके देश सेवा के भाव से एक नहीं लाखों नागरिकों के जीवन की रक्षा होती है। इसलिए हर छात्र-छात्रा को अपनी शक्ति के अनुसार जरूरमदों की सेवा करनी चाहिए।

geeta parivar three days arjun bhav sanskar path camps concluded

वेदप्रकाश गुप्ता ने बच्चों को संबोधित करते कहा कि माता-पिता का कर्तव्य है कि वे बच्चों में बचपन में ही अच्छे संस्कार डालें। उन्हें सेवा की भावना के लिए प्रेरित करें। क्योंकि बच्चे की प्रथम पाठशाला घर पर शुरू होती है और मां बच्चे की प्रथम गुरु होती है। बचपन में मिले संस्कार आजीवन नहीं भूलते और बच्चे के भविष्य की आधार शिला रखते हैं। बचपन में अगर पूरा ध्यान देकर बच्चों में सेवा का भाव भरा जाए तो बच्चा आगे चलकर समाज सेवा के कार्य मनोयोग से करता है। जरूरतमदों की सेवा के लिए भी बच्चों को प्रेरित किया जाना चाहिए।

Continue Reading

Trending